अलग राह

पाठक, कुछ लोग हर तरह से अलग होते हैं। सभी अनुकूलन हाथ में हाथ डाले खड़े हैं; लेकिन उन्हें एक अलग आसमान बुला रहा हैं। आज हमारी कहानी की नायिका है- मोनिका धवन। बेहद सहज व्यक्तित्व। आसानी से किसी को भी अपना कर लेना। आश्वस्त रूप से, तिहाड़ जेल में किरण बेदी के सुधार अलग नहीं हैं। कुछ अधिकारी ऐसे होते हैं जो कार्य को स्थायी बनाते हैं, अर्थात् वे जो बदलाव किए गए हैं, उन्हें स्थायी बनाने का प्रयास करते हैं। भले ही किरण बेदी का जेल का करियर खत्म हो गया हो ,लेकिन उनका सुधार कार्य जारी रहा ,उन्होंने इंडिया विज़न फाउंडेशन एनजीओ शुरू किया जिसके माध्यम से उन्होंने जेल को सुधारने का काम जारी रखा।

 

इसके माध्यम से ही मोनिका और मेरी मुलाकात हरियाणा राज्य में एक प्रशिक्षण के दौरान हुई थी। मोनिका इस संगठन की निदेशक हैं और उनका एक अलग रूप है।

 

उसका काम दिल्ली, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश और पंजाब में फैला हुआ है। मूल रूप से दिल्ली की रहने वाली मोनिका ने सामाजिक कार्य का अध्ययन किया है। उसका दर्शन भारत जैसा है। ‘ हमें काम करके पैसा कमाने की जरूरत नहीं है, यह एक वित्तीय स्थिति है’, लेकिन उनके लिए पैसे से ज़्यादा सेवा करना महत्वपूर्ण है यह कहना सही नहीं है कि वह कॉलेज के दो छात्रों की मां है। मोनिका को देखते हुए, वह सोचती है कि वह एक कॉलेज की छात्रा है नित नया सीखना और करना उनका स्वाभाव है।

 

दिल्ली के स्नातकोत्तर अतिवादी हैं। युवा और उत्साही है। जेल में काम करने के अलावा, मोनिका बाहर रहने वाले उन बच्चों के साथ काम करती है ,जिनके माता या पिता जेल में हैं या कभी किसी अभियोग में जेल गए हैं , इन बच्चों को शिक्षित करना संसथान का मुख्य उद्देश्य है। उनका संगठन विशेष ध्यान रखता है ताकि ये बच्चे माता-पिता के बिना आदी न बनें। बच्चे मेरिट में आते हैं व सफलता प्राप्त करते हैं। इतना बड़ा काम करने के बाद भी मोनिका के व्यक्तित्व में बहादुरी, नम्रता और दृढ़ संकल्प का आकर्षण है।

 

महाराष्ट्र राज्य कारागार उद्योग हमेशा प्रयोग करता रहा है, और वे सफल हैं। अन्य राज्य हमसे प्रेरणा लेते हैं और उद्योगों का निर्माण करते हैं। इंडिया विज़न फाउंडेशन ने उन सभी राज्यों में समान उद्योग स्थापित किए हैं, जहां यह काम करता है और कैदियों को कौशल और रोजगार मिल रहा है। अगर सरकार और एनजीओ एक साथ काम करते हैं, तो बहुत सकारात्मक बदलाव हो सकते हैं। समाज के हर तत्व को धर्मार्थ संगठनों की मदद से लाभ पहुँचाया जा सकता है, जैसा कि मोनिका के प्रयासों से देखा जा सकता है। अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए सभी को बधाई।

 

About the Author:

Swati Sathe, DIG Prisons, Head quarters, Govt of Maharashtra. Believes in reforms & rehabilitation.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *